Ronak Sawant is an artist engaged in performing, literary and visual arts. He is a life explorer and a free soul who uses his art, wisdom and life's journey to inspire people and make a positive change in the world.

September 14, 2022

text divider illustration
मेरी कविता मेरे विद्यालय में हिंदी दिवस समारोह के लिए प्रकाशित हुई है।
(My poem is published in my school for Hindi Diwas celebration.)


"मैं हिंदी भाषा हूँ"

 

मैं भारत की राजभाषा हूँ

संस्कृत मेरी नींव है

मैं हिंदी भाषा हूँ

मुझमें अनंत जीव है

 

मैं विदेशी भाषाओं की तुलना में एक भली भाषा हूँ

मेरे शब्द गाय के दूध जैसे शुद्ध हैं

मैं हिंदी भाषा हूँ

मेरी शब्दावली सबको करती प्रबुद्ध है

 

मैं अभिव्यक्ति और भावनाओं से जुड़ी भाषा हूँ

हर रिश्ते को एक अलग नाम देना मेरी पहचान है

मैं हिंदी भाषा हूँ

और हिंदी बोली बोलने वाले लोग मेरी शान हैं

 

 

कवि - रोनक सावंत

 

~~~

 

"Mai Hindi Bhasha Hoon"

 

Mai Bharat ki Rajbhasha hoon

Sanskrit meri neev hai

Mai Hindi bhasha hoon

Mujhme anant jeev hai

 

Mai videshi bhashaaon ki tulna mein ek bhali bhasha hoon

Mere shabd gaay ke doodh jaise shuddh hain

Mai Hindi bhasha hoon

Meri shabdaavli sabko karti prabuddh hain

 

Mai abhivyakti aur bhaavnaon se judi bhasha hoon

Har rishte ko ek alag naam dena meri pehchaan hai

Mai Hindi bhasha hoon

Aur Hindi boli bolne wale log meri shaan hain

 

 

Poet - Ronak Sawant


***


Note:

मुझे अपने विद्यालय के हिंदी दिवस समारोह के लिए यह सुंदर कविता 'मैं हिंदी भाषा हूँ' लिखने में बहुत आनंद आया। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं जिस विद्यालय में पढ़कर बड़ा हुआ हूँ, उसके लिए एक दिन मैं एक कविता लिखूँगा, जिसे विशेष रूप से स्कूल बोर्ड पर प्रकाशित किया जाएगा।

 

यह कविता मैंने हिंदी भाषा के दृष्टिकोण से लिखी है। इसलिए शीर्षक है "मैं हिंदी भाषा हूँ"। काव्य हिंदी भाषा की आत्मकथा के समान है, जो विश्व के सामने अपनी महानता और महिमा को व्यक्त करती है।

 

I had great pleasure in writing this beautiful poetry 'Mai Hindi Bhasha Hoon' for the Hindi Diwas celebrations of my school. I never thought that one day I would write a poem for the school I grew up learning in, which would be specially published on the school board.

 

I wrote this poem from the perspective of the Hindi language. Hence the title is "Mai Hindi Bhasha Hoon". The poetry is like an autobiography of the Hindi language, expressing its greatness and glory to the world.

Get Inspired

To receive notifications of new posts and inspiring content by email,
simply enter your email address and subscribe to Ronak Sawant's blog.

Get in Touch

To connect and get regular updates,
simply join Ronak Sawant's social networks.

Translate


"Explore life before expire."

– Ronak Sawant